IAS गरिमा अग्रवाल की सफलता की कहानी: पहली बार IPS, गरिमा दूसरी बार IAS बनीं, जानिए UPSC को क्रैक करने के टिप्स

1 min


Advertisements

IAS गरिमा अग्रवाल की सफलता की कहानी: संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की सिविल सेवा परीक्षा देश की सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा मानी जाती है। इसलिए इस परीक्षा में सभी को सफलता नहीं मिलती है। लेकिन कुछ होनहार उम्मीदवार ऐसे भी हैं जो अपने पहले प्रयास में ही परीक्षा में सफल हो जाते हैं। ऐसा ही कुछ आईएएस अफसर गरिमा अग्रवाल ने किया है। गरिमा मूल रूप से मध्य प्रदेश के खरगोन की रहने वाली हैं। 29 वर्षीय गरिमा ने अपने पहले प्रयास में यूपीएससी में जगह बनाई, लेकिन उनकी महत्वाकांक्षा आईएएस बनने की थी। इसने उन्हें फिर से तैयार किया और दूसरे प्रयास में आईएएस बनने का सपना देखा।

वर्तमान में गरिमा अग्रवाल तेलंगाना में प्रशिक्षण के लिए सहायक जिला मजिस्ट्रेट के पद पर तैनात हैं। गरिमा IIT हैदराबाद से ग्रेजुएट हैं। एक इंटरव्यू में उन्होंने IIT से IPS और फिर IAS तक के अपने सफर के बारे में बताया। आइए जानते हैं यहां…

गरिमा शुरू से ही पढ़ाई में होशियार थी

गरिमा ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा सरस्वती विद्या मंदिर खरगोन से की। IIT से ग्रेजुएशन करने के बाद उन्होंने UPSC की तैयारी शुरू कर दी। जब उन्होंने पहली बार परीक्षा दी तो उन्हें 240वां रैंक मिला। हालांकि, वह कम रैंक के कारण आईएएस नहीं बन सकीं। इसके बाद 2018 में उन्होंने दूसरी बार दोबारा परीक्षा दी। इस बार उन्हें ऑल इंडिया में 40वां स्थान मिला था। इसके बाद उन्होंने 2019-2020 में एलबीएस अकादमी, मसूरी में अपना प्रशिक्षण पूरा किया।

सफलता के लिए प्रतिष्ठा मंत्र

गरिमा के मुताबिक यूपीएससी की तैयारी कर रहे उम्मीदवारों को प्री, मेन और इंटरव्यू की तैयारी अलग-अलग और एक साथ नहीं करनी चाहिए. क्योंकि प्रीलिम्स में आने वाले प्रश्न मेन्स में भी कई बार आते हैं। इसलिए दोहराव जरूरी है। इसके साथ ही उम्मीदवार समय-समय पर मॉक टेस्ट भी दें। यह गति बढ़ाता है और परीक्षा में कोई प्रश्न नहीं छोड़ता है।

असफलता से निराश न हों

गरिमा के अनुसार यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में सफल होने के लिए सबसे जरूरी चीज है धैर्य और निरंतरता। इसलिए मेहनत करते रहो, अगर पहली बार सफलता नहीं मिली तो निराश मत होइए और दोहरे प्रयास से तैयारी करते रहिए। इस बीच नकारात्मक ऊर्जा वाले लोगों से दूरी बनाए रखें, क्योंकि ऐसे लोगों के आसपास रहने से तैयारी प्रभावित होती है।


Like it? Share with your friends!