IAS सफलता की कहानियाँ: 4-5 घंटे पढ़ाई करने के बाद IAS पास किया, बताया कैसे आप UPSC क्लियर कर सकते हैं

1 min


Advertisements

यदि आप एक आईएएस उम्मीदवार हैं तो आईएएस अधिकारी यशनी नागराजन की सफलता की कहानी को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि जब यशी यूपीएससी की तैयारी कर रही थी तब वह फुल टाइम जॉब कर रही थी। उन्होंने 2019 में अखिल भारतीय रैंक 57 हासिल करके आईएएस अधिकारी बनने के अपने सपने को हासिल किया।

उन्होंने चौथे प्रयास में यूपीएससी की परीक्षा पास की और इसके पीछे का कारण अच्छा समय प्रबंधन था। नागराजन के मुताबिक यूपीएससी की तैयारी के लिए नौकरी छोड़ने की जरूरत नहीं है। आपको बस अच्छे समय प्रबंधन के साथ कड़ी मेहनत करने की जरूरत है।

यशनी नागराजन ने अपनी स्कूली शिक्षा केंद्रीय विद्यालय, नाहरलगुन से की। इसके बाद उन्होंने 2014 में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग, यूपीआईए से ईईई में बी.टेक पूरा किया। उनके पिता, थंगावेल नागराजन, एक सेवानिवृत्त राज्य पीडब्ल्यूडी इंजीनियर हैं और उनकी मां गुवाहाटी उच्च न्यायालय रजिस्ट्री की ईटानगर शाखा के सेवानिवृत्त अधीक्षक हैं।

यशनी रोजाना 4 से 5 घंटे पढ़ाई में लगा देती थी। इतना ही नहीं वीकेंड पर भी वह पूरा दिन पढ़ाई करती थी। उनका मानना ​​है कि अगर आप यूपीएससी की तैयारी कर रहे हैं और आपके पास फुल टाइम जॉब है तो आपको वीकेंड पर पढ़ाई करनी चाहिए। इससे निश्चित तौर पर आपकी तैयारी मजबूत होगी। उचित समय प्रबंधन आपको 4 से 5 घंटे पढ़ाई के लिए अलग रखने में मदद करेगा।

नागराजन के अनुसार, उन्होंने दूसरों के प्रभाव में भूगोल को एक विषय के रूप में चुना। वह गलत विषय के कारण अपने शुरुआती प्रयास में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाई थी। बाद में उन्हें इस बात का अहसास हुआ और उन्होंने विषय बदल दिया। वह कहती हैं कि आपको अपना पसंदीदा विषय चुनना चाहिए ताकि आप जुनून के साथ पढ़ाई कर सकें। विषय अच्छा लगे तो गहराई से पढ़ें। यूपीएससी परीक्षा में वैकल्पिक विषय महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं क्योंकि वे अच्छा स्कोर करने में मदद करते हैं।

यशनी के मुताबिक, निबंध और नैतिकता ऐसे पेपर हैं जिनमें आप उच्च स्कोर कर सकते हैं। इसलिए इन विषयों को महत्व देना बहुत जरूरी है। वह कहती हैं कि पूर्णकालिक काम करते हुए यूपीएससी की तैयारी करना मुश्किल है लेकिन यह भुगतान करेगा। जब आपके पास पहले से ही नौकरी है, तो आप यूपीएससी में असफल होने पर भी तनाव महसूस नहीं करेंगे। करियर को लेकर ज्यादा चिंता न करें। कड़ी मेहनत और अच्छे समय प्रबंधन से आप IAS या IPS अधिकारी बन सकते हैं।


Like it? Share with your friends!