IAS इंटरव्यू प्रश्न: शादी की पहली रात को हनीमून क्यों कहा जाता है? सवाल का जवाब कुछ ऐसा है…

1 min


Advertisements

अब हम आपको बताते हैं कि शादी की पहली रात को सुहागरात क्यों कहा जाता है। क्योंकि जब किसी लड़की की नई-नई शादी होती है और शादी के बाद उसकी पहली रात होती है। इसलिए उस रात को सुहागरात कहा जाता है, क्योंकि यह शादी के बाद लड़की और लड़के की पहली रात होती है।

जिसे वे एक साथ बिताते हैं। इसमें वे कई चीजों के बारे में बात करते हैं और एक दूसरे को जानने की कोशिश करते हैं।

जब दो अजनबियों की शादी होती है, और फिर उनकी पहली रात होती है। तो उस रात को सुहागरात कहते हैं, अब आप जानते हैं कि शादी के बाद की पहली रात को सुहागरात क्यों कहते हैं?

हम आपको बताते हैं कि शादी की पहली रात को यह गलती न करें।

शादी की पहली रात को कभी भी किसी लड़के या लड़की से एक दूसरे के अतीत के बारे में नहीं पूछना चाहिए।

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि उनके अतीत में क्या हुआ था, लेकिन सुहाग रात के दिन आपको उस घटना का बिल्कुल भी वर्णन नहीं करना चाहिए।

शादी की पहली रात को आपको अपने परिवार वालों के बारे में बिल्कुल भी बात नहीं करनी चाहिए।

यदि आप अपने परिवार के सदस्यों के खिलाफ अच्छा या बुरा बोलते हैं, तो आपके साथी की आपके बारे में गलत भावनाएं हो सकती हैं।

इसके अलावा पटनार के साथ शारीरिक संबंध बनाने में जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए.

अगर आप अपने पार्टनर के साथ फिजिकल होने की जल्दी में हैं तो इसका उस पर बुरा असर पड़ेगा। इससे वह आपसे नाराज हो सकता है।

शादी की पहली रात सुहागरात होती है। साथ ही अपने पार्टनर की गलतियों को बिल्कुल भी न सुधारें।

यदि आप पहली रात अपने साथी की गलतियों को इंगित करते हैं, तो यह उसे दुखी कर सकता है या आपके रिश्ते को भी खराब कर सकता है, इसलिए सब कुछ छोड़ दें और उससे मीठी-मीठी बातें करें।

इसके अलावा शादी की पहली रात यानी हनीमून के दिन भी आपको अपनी पत्नी या पटनार की बात सुननी चाहिए.


Like it? Share with your friends!