स्वतंत्रता सेनानियों के नाम पर रेलवे स्टेशन का नाम

1 min


Advertisements

स्वतंत्रता सेनानियों पर रेलवे स्टेशन: भारत में रेलवे परिवहन का एक महत्वपूर्ण साधन है, जिसमें गरीब से लेकर अमीर तक हर वर्ग के लोग यात्रा कर सकते हैं। रेलवे ने ऐसी स्थितियों में यात्रियों की सुविधा के लिए अलग-अलग जगहों पर स्टेशन बनाए हैं, जिनमें से कुछ बहुत प्रसिद्ध हैं।

ऐसे में आज हम आपको भारत के कुछ प्रमुख रेलवे स्टेशनों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनका नाम क्रांतिकारियों और स्वतंत्रता सेनानियों के नाम पर रखा गया है। देश को आजादी दिलाने में इन क्रांतिकारियों के अहम योगदान के बारे में कम ही लोग जानते हैं।

बेलानगर रेलवे स्टेशन

बेलानगर रेलवे स्टेशन पश्चिम बंगाल के कोलकाता शहर में स्थित है, जिसका नाम क्रांतिकारी बेला बोस के नाम पर रखा गया है। बेला बोस नेताजी सुभाष चंद्र बोस की भतीजी थीं, जिन्होंने भारतीय लोगों की सेवा करने और देश को आजादी दिलाने के लिए कड़ी मेहनत की। यह भी पढ़ें- भारतीय क्रांतिकारियों-किसानों को मिला देश का झंडा

बेला बोस ने 1936 में इंडियन नेशनल आर्मी (INA) के प्रमुख हरिदास मित्रा से शादी की, जिसके बाद वह खुद INA टीम की इंटेलिजेंस विंग में शामिल हो गईं। इसके साथ ही बेला बोस ने क्रांतिकारियों को सुरक्षा की ओर ले जाने और स्वतंत्रता सेनानियों का मार्गदर्शन करने के लिए बड़ा जोखिम उठाया।

बेला बोस देश की आजादी के बाद किसी भी राजनीतिक दल में शामिल नहीं हुईं, बल्कि उन्होंने झांसी रानी की टीम बनाई और इस तरह सामाजिक कार्यों में योगदान दिया। 1952 में बेला बोस की मृत्यु हो गई, जिसके बाद उनकी याद में बेलानगर रेलवे स्टेशन का नाम रखा गया।

पंडित राम प्रसाद बिस्मिल रेलवे स्टेशन

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले में एक छोटा रेलवे स्टेशन है जिसका नाम पंडित राम प्रसाद बिलमिल है। इस रेलवे स्टेशन का नाम महान स्वतंत्रता सेनानी राम प्रसाद बिस्मिल के नाम पर रखा गया है जिनका जन्म 1897 में हुआ था।

राम प्रसाद बिस्मिल ने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में महत्वपूर्ण योगदान दिया, जबकि वे मैनपुरी षडयंत्र और काकोरी कांड में भी शामिल थे। लेकिन ब्रिटिश सरकार ने उन्हें महज 30 साल की उम्र में फांसी पर लटका दिया था, जिसके बाद भारत की आजादी के नाम पर एक रेलवे स्टेशन का नाम रखा गया।

सुनाम उधम सिंह वाला रेलवे स्टेशन

सुनाम उधम सिंह वाला रेलवे स्टेशन पंजाब के संगरूर जिले में स्थित है, जिसे शुरू में सुनाम रेलवे स्टेशन के नाम से जाना जाता था। सुनाम उधम सिंह भारतीय क्रांतिकारियों में से एक हैं, जिनकी मृत्यु के बाद रेलवे स्टेशन का नाम उनके सम्मान में रखा गया था और स्टेशन कुल 53 ट्रेनों की सेवा करता है।

वीरांगना लक्ष्मीबाई रेलवे स्टेशन

वीरांगना लक्ष्मीबाई रेलवे स्टेशन उत्तर प्रदेश के झांसी शहर में स्थित है, जिसे रानी लक्ष्मीबाई के सम्मान में बनाया गया है। यह उत्तर भारत और दक्षिण भारत को जोड़ने वाला एक महत्वपूर्ण जंक्शन है, जिसे पहले झांसी रेलवे स्टेशन के नाम से जाना जाता था।

ब्रिटिश शासन के खिलाफ लड़कर देश की आजादी में अहम भूमिका निभाने वाली रानी लक्ष्मीबाई का जन्म 19 नवंबर 1828 को हुआ था। रानी लक्ष्मीबाई की 29 वर्ष की आयु में अंग्रेजों से लड़ते हुए मृत्यु हो गई, जिसके बाद उनके सम्मान में रेलवे स्टेशन का नाम रखा गया।

तो ये थे भारत के कुछ प्रसिद्ध रेलवे स्टेशन, जिनका नाम महान क्रांतिकारियों और स्वतंत्रता सेनानियों के नाम पर रखा गया है। ऐसे में देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले स्वतंत्रता सेनानियों को हम सभी को नमन करना चाहिए। यह भी पढ़ें- भारत की ये 9 सबसे लग्जरी ट्रेनें, जो टिकट की कीमत में खरीद सकती हैं नई कार


Like it? Share with your friends!